The Pain

I knew this was going to happen.
So I’m not blaming you for falling out of love with me.
I’m not angry, either. I should be, but I’m not.
I just feel pain.
A lot of pain.
I thought I could imagine how much this would hurt, but I was wrong.

Sleeping Pill – Gulzar

Sab kuch waise hi chalta hai
Jaise chalta tha jab tum thi..

Raat bhi waise hi sar moonde aati hai
Din waise hi aankhen malta jaagta hai ..

Taare saari raat jamhaaiyan lete hain
Sab kuch waise hi chalta hai
Jaise chalta tha jab tum thi…

Kaash tumhare jaane par
Kuch fark toh padta jeene mein..

Pyaas na lagti panni ki
Ya naakhun badhna band ho jate..

Baal hawa main na udte
Ya dhuaan nikalta saanson se..

Sab kuch waise hi chalta hai…

Bas itna fark pada hai meri raaton main
Neend nhi aati to ab sone ke liye Ik Neend ki Goli roj nigalni padti hai.

_ Gulzar

Pain

मैं दर्दों को पास बिठा कर ही सोऊँ,
जो तुझे लगता बारिश है
वो मैं हूँ जो रोऊँ

False World. -pleiades.

निकलूँ जब घर से
तो हँसी ओढ़ लेता हूँ,
दिल में हो कुछ भी
बाहर सब सह लेता हूूँ

चेहरे पे हँसी,
दिल में दर्द लिए
लोगों का चैन और सूकून देखता हू्ँ,
और वही हक़ीक़त समझ लेता हूँ

भूल जाता हूँ,
कोई याद भी तो दिलाए मुझे,
सबने ओढ़े हैं चेहरे यहाँ, सब के ख़ातिर
बहकाने की अदाकारी में सब हो गऐ हैं शातिर

मैंने भी कुछ चेहरे बनाए
जगह-जगह के हिसाब से पहना उन्हें
और अलग कहानी क़िस्से सुनाए

समय के साथ मैं ये सब सीख तो आया,
मगर दिल को ये सब रास न आया
याद आता है अब
तुम्हारे साथ था जो सब

न मेरी कोई हँसी झूठी थी
न तुम कभी बिना बात रूठीं थीं

अपनी बातों से मैं तुम्हारा दिमाग़ भर देता,
न ख़ुद सोता, न तुमको सोने देता

मेरी फ़िज़ूल बातें,
तुम्हारे प्यारे थप्पड़,
दिन, महीने गुज़रते
हम लड़ते, गाते हँसकर

मैं, मैं था
तुम, तुम हीं थीं
सब सच्चा था
झूठीं तो सिर्फ़ ये दुनिया थी

-pleiades.

12813906_1114235645276230_579527849328603509_n

Your Traces. -pleiades.

हर वो जगह मौजूद है,
पर तू नज़र आती नही
हर शाम में कई रंग हैं,
पर वो तेरा संग नही

मैं ढूँढूँ तुझको गली गली
मैं दिल को समझाऊँ यही, यही
की तू कहीं नहीं है

पर चाँद लिए जब रात चढ़े
मेरे दिल में तेरी कोई बात लिए
लगे की
तू यहीं कहीं है

जब हवा चले, नए लोग मिलें
उन चेहरों में कोई झलक दिखे
दिल चुपके से एक बात कहे,
बोले तू यहीं कहीं हैं

उन बातों पे जब साथ हँसें
उन गलियों में जहाँ साथ चले
दिल लेके मुझको वहीं चले
बोले तू वहीं कहीं है

-pleiades.

Tere Bina. – Gulzar.

“तेरे बिना चाँद का सोना, खोटा रे
पीली-पीली धूल उंड़ावे झूठा रे
तेरे बिना सोना पीतल
तेरे संग कीकर पीपल
आजा…. काटे ना रतियाँ.

तेरे बिना बेसुवादी,   बेसुवादी रतियाँ
ओ सजना,
रूखी रे ओ रूखी रे,
काटूँ रे कटे, कटे ना…”

– Gulzar.

though it is near impossible to translate
the pureness of the words of Gulzar but here’s the Rough Translation:

“Without you the moonlight appears fake
everything is false, like dust in my eyes,
without you, the gold seemed to be brass,
with you, the wild bush turn to green grass.

Without you the nights has lost their meaning,
O beloved.
the night’s are plain cold, comeback
I cannot seems to pass through these nights. ”

 

Separation. -Irshad Kamil.

“Birhaa ka dukh kaahe ho baanke,
Dikhe mohe tu hi jiya mein jo jhaankiye.

Pal pal ginti hoon aathon hi pahar,
Kitne baras huey mohe haan kiye.

Naina nihaaro more bhor se jhare,
Preet mori piya baaton se na aankiye.

Main hi mar jaaun ya mare dooriyan.

Dooriyon ki chadaron pe yaadein taankiye..”

Translation:

“Why should there be sorrow of separation, oh boy
when it’s only you  I see, when I see inside my heart.

I’ve counted every moment,
in every eight divisions of day and night,
how many years have passed since I said Yes.

Look at my eyes, they’ve been crying since morning,
My Beloved, Don’t value my Love for you
from My Words.
(don’t estimate my love for you, just from my words,
look at my teary eyes too.)
I should die or these distances between us should die.

Sew our memories on the bed sheets of distances. ”

– Irshad Kamil (Chali Kahani, Tamasha.)

IMG_6611